तर्कवाक्य : स्वरूप, संरचना एवं उनके प्रकार (Proposition: Nature, Structure and its Type)

Structure of Proposition तर्कशास्त्रीय तर्क (Logical Reasoning) का संबंध तर्कशास्त्र से है जैसा कि हम लोग जानते हैं कि लॉजिकल रीजनिंग का महत्वपूर्ण विषय वस्तु है जो विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं…

0 Comments

न्याय के आकार (Figure of Syllogism)

न्याय के आकार एवं उसके विशेष नियम न्याय का आकार (Figure of Syllogism) उसके मध्यवर्ती पद के स्थान पर निर्भर करता है। मध्यवर्ती पद दोनों आधार वाक्यों में होता है।…

0 Comments
Read more about the article न्याय के दस सामान्य नियम एवं दोष: जानना है जरूरी! (General Rules and it’s Fallacy of Syllogism : Needs to Know)
Logical Reasoning

न्याय के दस सामान्य नियम एवं दोष: जानना है जरूरी! (General Rules and it’s Fallacy of Syllogism : Needs to Know)

न्याय अर्थात सिलॉजिज्म के इस दस सामान्य नियम को जानना आवश्यक ही नहीं बल्कि अनिवार्य होता है क्योंकि इन्हीं नियमों के आधार पर ही सिलॉजिज्म अर्थात न्याय की वैद्य युक्ति…

0 Comments

न्याय : संरचना, प्रकार एवं उसकी विशेषता (Syllogism : Structure, Kinds and it’s Characteristic )

मध्याश्रित अनुमान का शाब्दिक अर्थ है वह अनुमान जो मध्यवर्ती पद पर आधारित हो। अरस्तु ने मध्याश्रित अनुमान को न्याय (Sylloogism) कहा है। न्याय क्या है? What is Syllogism? न्याय…

0 Comments
Read more about the article निगमनात्मक अनुमान (Deductive Inference/ Deduction)
Logical Reasoning

निगमनात्मक अनुमान (Deductive Inference/ Deduction)

इस आलेख में अनुमान (Inference) क्या है? अनुमान के प्रकार - निगमनात्मक अनुमान (Deductive Inference/ Deduction) और आगमनात्मक अनुमान (Inductive Inference or Induction)। साक्षात अनुमान निगमनात्मक अनुमान के रूप है…

0 Comments
Read more about the article पदों की व्याप्ति (Distribution of Terms)
Logical Reasoning

पदों की व्याप्ति (Distribution of Terms)

पदों की व्याप्ति (Distribution of Terms) विद्यार्थियों को तर्कवाक्य के स्वरूप एवं उनकी संरचना और प्रकार की जानकारी होनी चाहिए। ताकि वे तर्कशास्त्रीय तर्क का सही-सही हल कर सकें। तर्कवाक्य…

0 Comments
Read more about the article तर्कवाक्यों का विरोध (Opposition of Propositions)
Logical Reasoning

तर्कवाक्यों का विरोध (Opposition of Propositions)

तर्कवाक्यों का विरोध जब दो तकवाक्यों में उद्देश्य और विधेय एक समान हो किंतु उनमें केवल गुण का, केवल परिमाण का, या गुण तथा परिमाण दोनों का अंतर पाया जाता…

0 Comments